कामेंग नदी में अचानक काला पड़ा पानी, नदी में मौजूद हज़ारों मछलियां पाई गई मृत

अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी कामेंग नदी में कुछ ऐसा हुआ। जिसे सुनकर हैरान। यहाँ नदी का पानी अचानक काला हो गया और नदी में मौजूद हज़ारों मछलियां मरी हुई पाइ गई। जिला मत्स्य पालन अधिकारीयों का कहना है कि पानी में कुल विघटित पदार्थों की बढ़ी हुई मात्रा के कारण नदी का पानी काला हो गया था। नदी के आस पास वाले लोगों ने इसका ज़िम्मेदार चीन को ठहराया है। उनका कहना है कि चीन में हो रहे निर्माण कार्यों से नदी का पानी दूषित हो गया है। जिसकी वजह से हज़ारों मछलियों की मौत हो गई। प्रशासन ने लोगों से कुछ दिनों तक मछलियां न खाने और पकड़ने की अपील की है।

कामेंग नदी

इस मामले में जिला मत्स्य विकास अधिकारी हाली ताजो ने कहा कि जिला मुख्यालय सेप्पा में शुक्रवार को नदी में हजारों मछलियां मृत पाई गईं। मौतों का कारण टीडीएस की बड़ी उपस्थिति है, जिसके कारण जलीय प्रजाति पानी न तो ढंग से देख पाती हैं और न ही आसानी से सांस ले पाती हैं।

कानपुर में जीका मरीजों की संख्या बढ़ी, कंटेनमेंट जोन बनाने के मिले निर्देश

उन्होंने बताया, “चूंकि कामेंग नदी के पानी में टीडीएस बहुत अधिक था इसलिए मछलियों को सांस लेने और देखने में परेशानी हो गई थी।” उन्होंने एक रिपोर्ट के हवाले से कहा कि नदी में टीडीएस 6,800 मिलीग्राम प्रति लीटर था, जो सामान्य सीमा 300-1,200 मिलीग्राम प्रति लीटर से काफी अधिक है। अधिकारी ने लोगों से मछली का सेवन न करने की अपील की क्योंकि इससे स्वास्थ्य संबंधी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper