सुप्रीम कोर्ट नाराज, योगी सरकार से पूछा- 302 में अब तक गिरफ्तारी क्‍यों नहीं?

नई दिल्‍ली। लखीमपुर मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है। योगी सरकार ने आज लखीमपुर मामले की स्‍टेटस रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने तल्‍ख शब्‍दों में योगी आदित्‍यनाथ सरकार से पूछा कि मामले में अब तक 302 के तहत कोई गिरफ्तारी क्‍यों नहीं की गई?

सुप्रीम कोर्ट

लखीमपुर मामले को लेकर चीफ जस्टिस ने सरकार से पूछा, आखिर आप क्या संदेश देना चाहते हैं? 302 के मामले में पुलिस सामान्यतया क्या करती है? सीधा गिरफ्तार ही करते हैं ना! अभियुक्त जो भी हो कानून को अपना काम करना चाहिए!

मर्डर की धारा है, बाकी केसों जैसे ही ट्रीट क्यों नहीं किया गया: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि आरोप 302 (हत्या) का है। आप उसे भी वैसे ही ट्रीट करें जैसे बाकी केसों में मर्डर केस में आरोपी के साथ ट्रीट किया जाता है। कोर्ट ने कहा कि ये नहीं होता कि प्लीज आ जाएं नोटिस किया गया है। प्लीज आइए।

इस पर साल्वे ने कहा कि यह 302 का केस हो सकता है। बेंच ने हैरानी जताते हुए पूछा कि 302 हो सकता है? हो सकता है? चीफ जस्टिस ने कहा कि मौके पर चश्मदीद गवाह हैं चीफ जस्टिस ने कहा कि हमारा मत है कि जहां 302 का आरोप है वह गंभीर मामला है और आरोपी के साथ वैसा ही व्यवहार होना चाहिए जैसे बाकी केसों में ऐसे आरोपी के साथ होता है। क्या बाकी केस में आरोपी को नोटिस जारी किया जाता है कि आप प्लीज आ जाइए?

जांच के लिए यूपी सरकार की तरफ से उठाए कदमों से संतुष्ट नहीं कोर्ट

लखीमपुर खीरी मामले पर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश ने यूपी सरकार को अपने डीजीपी से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि जबतक कोई अन्य एजेंसी इसे संभालती है तबतक मामले के सबूत सुरक्षित रहें। कोर्ट ने कहा है कि वह लखीमपुर खीरी हिंसा मामले की जांच में यूपी सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों से संतुष्ट नहीं है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper