Uttarakhand : ढाई साल के बच्चे की मिली लाश, एक दिन पहले हुआ था घर से लापता

एक दिन पूर्व शाम को लापता हुए ढाई वर्षीय बच्चे का क्षत-विक्षत शव शनिवार सुबह घर से करीब एक-डेढ़ किलोमीटर दूर मिला। बताया जा रहा है कि बच्चे का केवल सिर और एक हाथ ही अभी बरामद हुआ है। ऐसी घटना (Uttarakhand) से बालक के परिवार के साथ क्षेत्र में गम, भय और गुस्से का माहौल है।

Uttarakhand

इस गांव में हुई वारदात

जानकारी के अनुसार जनपद मुख्यालय के निकटवर्ती ज्योलीकोट (Uttarakhand) के पास चोपड़ा ग्राम सभा के मटियाली बैंड के पास झाले में भानु राणा पत्नी मीना राणा और दो पुत्रों 4 वर्षीय पीयूष और करीब ढाई साल के राघव के साथ रहते हैं। भानु राणा का छोटा पुत्र राघव शुक्रवार देर शाम करीब 6 बजे राघव घर के आंगन से अचानक गायब हो गया। बच्चे की आसपास बहुत खोजबीन की गई लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला।

नवजोत सिंह सिद्धू ने खत्म की भूख हड़ताल, बच्ची के हांथों पिया जूस

पहले भी हो चुकी है ऐसी घटनाये

क्षेत्र में पूर्व में हो चुकी घटनाओं के कारण यह माना जा रहा था कि ढाई साल के बच्चे को गुलदार उठा कर ले गया है। इसलिए रात्रि 11 बजे के बाद तक वन विभाग के कर्मी एवं स्थानीय ग्रामीण बच्चे की तलाश में जंगल में जुटे रहे, तब अंधेरा गहरा होने की वजह से बच्चे का कोई पता नहीं चल सका। आज सुबह-सुबह बच्चे का शव बरामद हो गया। विस्तृत जानकारी की प्रतीक्षा है।

अन्य लोगों पर भी झपट चुका है गुलदार

गौरतलब है कि क्षेत्र में दो-तीन पहले गुलदार गांव को जाने वाले रास्ते पर चोपड़ा गांव निवासी मनोज, नरेंद्र और ललित पर झपट गया था। इससे पहले भी जंगल से लगे इस क्षेत्र में गुलदार की लगातार आवक बनी हुई है। ऐसा लगता है कि अब गुलदार नरभक्षी बन चुका है तो उसका खतरा और बढ़ गया है। क्षेत्रीय लोग वन विभाग और प्रशासन से गुलदार को पकड़कर उसके आतंक से निजात दिलाने की मांग कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper