सिख व्यक्ति से इंग्लैंड में हुई मारपीट, हमलावरों ने पूछा- तालिबानी हो क्या?

लंदन। पंजाब में जन्मे सिख टैक्सी चालक ने कहा है कि चार श्वेत लोगों ने इंग्लैंड के बर्कशायर में उसके साथ मारपीट की और पूछा कि क्या वह आतंकवादी समूह तालिबान का सदस्य है। रीडिंग टाउन के टाइलहस्र्ट उपनगर में रहने वाले वनीत सिंह (41) का मानना है कि चारों आरोपी स्कॉटिश या आयरिश हो सकते हैं।

सिख

मारपीट से चोटिल हुए सिंह ने पुलिस को बताया कि पुरुषों ने उनकी नाक में नशीला पदार्थ डाल दिया, टैक्सी के साथ तोड़फोड़ की और उनकी पगड़ी उतारने की कोशिश की। चारों को बर्कशायर के एक कसीनो से पिक करने के बाद उनमें से एक ने ब्रेमली के पास उतारने के लिए कहा था।

सिंह ने दावा किया, “बाहर निकलने के बाद, वह मेरी खिड़की के पास काले बक्से में रखी किसी चीज के साथ आया जो मुझे लगता है कि कैनबिस था। उसने मुझे इसका इस्तेमाल करने के लिए कहा और मैंने कहा कि यह मेरे धर्म के खिलाफ है और फिर उसने मेरे फेस मास्क को हटा दिया और जबरन नाक में डाल दिया। इससे मैं नशे में चूर हो गया।”

सिंह ने बताया कि एक अन्य शख्स ने बाहर निकलकर कार चलाने के लिए कहा और मैंने मना कर दिया। फिर उसने मेरी टैक्सी की प्लेट को निकालने की कोशिश की। मैंने पुलिस को फोन करने की कोशिश की, लेकिन नेटवर्क बहुत खराब था। कार में वापस आकर उन्होंने मेरी पगड़ी को खींचने की कोशिश की।

सिंह ने कहा, “उन्होंने मुझे पीछे से लात और घूंसे मारे और मेरी सुरक्षा बेल्ट को कसना जारी रखा। उन्होंने कहा, ‘क्या तुम तालिबानी हो?’ मैंने कहा, ‘नहीं, मैं एक सिख हूं।’और उन्हें इसका धार्मिक प्रतीक बताया और कहा कि वे मेरी पगड़ी को न छुएं।

तीनों लोग बेसिंगस्टोक में एक रेड ट्रैफिक के पास उतरे, उनकी कार को पीछे से लात मारकर चलते बने।  कैब चलाने के अलावा, सिंह बर्कशायर में तबला भी सिखाते हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे अब गर्दन और सीने में दर्द हो रहा है और मेरा शरीर कांप रहा है। यह 100 प्रतिशत नस्लवादी हमला था। मैं आमतौर पर एक दोस्ताना आदमी हूं, हमेशा हंसता रहता हूं और इस वाकये ने मुझे डरा दिया है।” टेम्स वैली पुलिस ने कहा कि वे मामले की जांच कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper