फिल्मों के कहानी के जैसी है अभिनेता कमल हसन के ज़िंदगी की कहानी

वर्ष 1996 में कमल हसन के सिने कैरियर की एक और महत्वपूर्ण फिल्म “इंडियन” प्रदर्शित हुयी। एस. शंकर के निर्देशन में बनी फिल्म में उन्होंने दोहरे किरदार को रुपहले पर्दे पर साकार किया। फिल्म में दमदार अभिनय के लिये उन्हें अपने कैरियर में तीसरी बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के रूप में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वर्ष 1998 में उन्होंने हिंदी फिल्मों में निर्देशन के क्षेत्र में भी कदम रख दिया और ‘चाची 420 में अभिनय के साथ निर्देशन भी किया।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी कमल हासन ने न केवल अभिनय की प्रतिभा से बल्कि गायन निर्माण, निर्देशन, पटकथा लेखक, गीतकार नृत्य निर्देशन, पटकथा और गीत लेखन तथा नृत्य निर्देशन से भी सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाया है। वर्ष 1981 में कमल हासन ने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रखा और ‘राजा पारवई का निर्माण किया। इसके बाद उन्होंने अपूर्व सहोदरगल, थेवर मगन, चाची 420, हे राम और मुंबई एक्सप्रेस का भी निर्माण किया। कमल हासन ने कई फिल्मों की कहानी भी लिखी है। इनमें विरासत 1997 और बीबी नंबर वन 1999 प्रमुख है।वर्ष 2008 में कमल हासन की फिल्म ‘दशावतारम प्रदर्शित हुयी जिसमें दर्शकों को उनके अभिनय का नयारंग देखने को मिला। इस फिल्म में उन्होंने 10 अलग-अलग भूमिकाएं निभाकर दर्शकों को अचंभित कर दिया।

सूर्यवंशी में रोल की वजह से भावुक हो गईं अभिनेत्री हेलेन शास्त्री

वर्ष 2012 में कमल हासन के कैरियर की सर्वाधिक सुपरहिट फिल्म विश्वरूपम प्रदर्शित हुयी। इस फिल्म ने टिकट खिड़की पर 250 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई की है। कमल हसन को फिल्म इंडस्ट्री में आये हुये हुये पांच दशक हो गये हैं। कमल हसन अपने करियर में 200 से अधिक फिल्मों में अपने अभिनय का जौहर दिखा चुके हैं। कमल हसन को पद्मश्री और पद्मभूषण सम्मान से सम्मानित किया गया है। वह आज भी जोशो-खरोश के साथ काम कर रहे हैं।
प्रेम

Related Articles

Back to top button
E-Paper