अयोध्या आंदोलन की इन दो विभूतियों ने अदालत के फैसले का किया स्वागत

नई दिल्ली। अयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत के फैसले का भारतीय जनता पार्टी के वयोवृद्ध नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी ने स्वागत करते हुए इसे ऐतिहासिक फैसला करार दिया। अभी कुछ ही देर पहले अदालत ने अपना फैसला सुनाया।

सीबीआई की विशेष अदालत के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त हुए लालकृष्ण आडवाणी ने कहा, ‘मैं बाबरी विध्वंस मामले में विशेष न्यायालय द्वारा दिए गए निर्णय का तहे दिल से स्वागत करता हूं। इस फैसले से राम जन्मभूमि आंदोलन के प्रति मेरे व्यक्तिगत और भाजपा के विश्वास और प्रतिबद्धता का पता चलता है।’ फैसला आने के बाद केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने श्री आडवाणी के घर जाकर उनसे मुलाकात की और उन्हें इस मामले में बरी होने पर बधाई दी। आडवाणी के आवास के बाहर भाजपा समर्थकों का हुजूम उमड़ पड़ा है।

इसी तरह मुरली मनोहर जोशी ने अदालत के फैसले का स्वागत करते हुए इसे ऐतिहासिक फैसला करार दिया है। जोशी ने कहा कि फैसले से साबित होता है कि अयोध्या में छह दिसंबर की घटना के लिए कोई साजिश नहीं रची गई थी। हमारे कार्यक्रम किसी साजिश का हिस्सा नहीं थे। जोशी ने कहा कि हम सभी को अब राम मंदिर निर्माण को लेकर उत्साहित होना चाहिए।

 

Related Articles

Back to top button
E-Paper