इस बार वैलेंटाइन डे पर महंगा पड़ेगा इश्क का इज़हार, जानें क्या है वजह

वैलेंटाइन डे

इश्क के इज़हार का दिन वैलेंटाइन डे नजदीक है लेकिन जनाब इस बार इश्क का इज़हार आपकी जेब पर भारी पड़ सकता है। इसकी वजह है गुलाब की कीमतों में भारी इज़ाफा। कोरोना महामारी के चलते फूलों के उत्पादन पर भारी असर हुआ है, जिससे इसकी कीमतें 15 प्रतिशत तक बढ़ गई हैं।

वैश्विक फ्लॉवर डिलीवरी चेन इंटरफ्लोरा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी तरुण जोशी के मुताबिक वैलेंटाइन वीक के दौरान 20 फूलों का गुलदस्ता औसतन 700-800 रुपये का बिक रहा है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के चलते फूलों के निर्यात में गिरावट आने के कारण किसानों ने गुलाब और अन्य विदेशी फूलों की खेती के बजाय सब्जी की खेती की है। इसके अलावा ऑनलाइन सेल में 30 फीसदी के इजाफे और कम आपूर्ति के चलते भी कीमतों पर दबाव बना हुआ है। वहीं अंतरराष्ट्रीय बाजार में कम मांग और पिछले कुछ महीनों में दोगुने हो चुके हवाई किरायों के चलते फूलों के निर्यात में 40 प्रतिशत तक की गिरावट आई है।

बालों में है डैंड्रफ तो अपनाएं ये नैचुरल टिप्‍स, एक बार प्रयोग करते ही दिखेगा असर

ग्रोवर्स फ्लॉवर काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष श्रीकांत बोल्लापल्ली ने कहा कि इसके बावजूद काउंसिल सुनिश्चित करेगी कि गुलाबों की सबसे अच्छी गुणवत्ता, बड़ी कली का आकार, लंबे तने की लंबाई और रंगों के विभिन्न शेड्स, घरेलू बाजार में इस साल मामूली वृद्धि पर उपलब्ध हो सकें। भारत यूरोप, मध्य पूर्व और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों को प्रति वर्ष लगभग 500 करोड़ रुपये की कीमत की 2 करोड़ गुलाब की कलियों (तनों) का निर्यात करता है।

वैलेंटाइन वीक हर साल 7 से 14 फरवरी के बीच मनाय जाता है। भारत सहित दुनियाभर में फूलों की खेती करने वालों के लिए साल का यह सबसे बड़ा अवसर होता है। भारत में वैलेंटाइन डे के आसपास लगभग 500 करोड़ रुपये का फूलों का कारोबार होता है। इन फूलों की सप्लाई खासतौर से पुणे, बेंगलुरु, होसुर, कूर्ग और ऊटी से होती है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper