यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने की कलश स्‍थापना, नौ दिनों तक रहेंगे व्रत

गोरखपुर। उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने आज शारदीय नवरात्र की प्रतिपदा तिथि पर गोरखनाथ मंदिर में अपने आवास में स्‍थापित शक्तिपीठ में बतौर गोरक्षपीठाधीश्‍वर वैदिक मंत्रोच्‍चार के बीच कलश की स्‍थापना की। जानकारी के मुताबिक, कलश स्‍थापना के लिए जल परिसर में मौजूद पवित्र भीम सरोवर से लिया गया।

बता दें कि सीएम योगी शनिवार की सुबह बलरामपुर जिले के देवीपाटन शक्तिपीठ में मां आदिशक्ति की आराधना के बाद करीब दो बजे गोरखनाथ मंदिर पहुंचे थे। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार मंदिर के शक्तिपीठ में कलश स्थापना की तैयारी पहले से ही कर ली गई थी।

वहीं इसके बाद गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्‍यनाथ ने शाम सवा पांच बजे कलश भरने के लिए शोभा यात्रा निकालने को मंदिर के प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ को अपने हाथ से त्रिशूल सौंपा। करीब दो घंटे तक चले आनुष्ठानिक कार्यक्रम में उन्होंने कलश स्थापना के बाद मां भगवती के प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की आराधना की।

प्रधान पुजारी की अगुवाई में साधु-संतों के साथ कलश शोभा यात्रा मां आदिशक्ति के जयघोष के साथ भीम सरोवर पहुंची। वहां वैदिक मंत्रोच्‍चार के बीच कलश भरा गया और फिर सरोवर की परिक्रमा की गई। कलश भरने की प्रक्रिया सम्पन्न करने के बाद योगी कमलनाथ भरा कलश लेकर वापस शक्तिपीठ पहुंचे, जहां गोरक्षपीठाधीश्वर योगी ने उनसे लेकर पहले त्रिशूल को स्थापित किया और फिर गौरी-गणेश को प्रतिष्ठित करने के बाद कलश स्थापना की परंरपरागत आनुष्ठानिक प्रक्रिया सम्पन्न की।

बता दें कि अनुष्ठान का कार्य मंदिर के प्रधान पुरोहित आचार्य रामानुज त्रिपाठी वैदिक के नेतृत्व में सम्पंन कराया गया।

Related Articles

Back to top button
E-Paper