यूपी कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार : नवनीत सहगल

उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर के नियंत्रण में आने के साथ योगी आदित्यनाथ सरकार तीसरी लहर से निपटने की तैयारी में जुट गयी है। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया, ‘तीसरी लहर आने से पहले सरकार उसे रोकने की तैयारी में पूरी तरह जुट गई है। इसके लिए हर जिले में महिलाओं और बच्चों के लिए डेडिकेटेड अस्पताल बनाए जा रहे हैं। हर जनपद में पीडियाट्रिक आईसीयू बनाए जा रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि तीसरी लहर में बच्चों को चपेट में अंदेशा है, जिससे निपटने के लिए पूरी टीम जी-जान से जुटी है।

कोरोना की दूसरी लहर से निपटने की रणनीति के बारे में अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि सभी गांवों में 97 हजार निगरानी समितियां भेजी गई हैं, जो घर-घर जाकर स्क्रीनिंग कर रही है। इसके लिए 10 लाख मेडिकल किट भी दी गयी है। उन्होंने बनाया कि केवल अस्पतालों में बेड बढ़ाए जा रहे हैं, बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और दवाओं की व्यवस्था की गई है।

अपर मुख्य सचिव सूचना के मुताबिक, मार्च से लेकर अब तक मेडिकल कालेज में 11 हजार और स्वास्थ्य विभाग ने 18 हजार से ज्यादा बेड बढ़ाए गए हैं। नवनीत सहगल ने कहा, ‘सीएचसी में आक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था हो रही है। यहां 21 हजार कंसंट्रेटर भेजे जा रहे हैं। 855 सीएचसी में करीब 20-20 की व्यवस्था होगी। हर सीएचसी में 20-20 ऑक्सीजन वाले बेड होंगे। राज्य सरकार किसी भी स्थिति से निपटने की पूरी तरह तैयार है। स्टॉफ की भर्ती हो रही है। इस माह करीब 700 लोगो की भर्ती हो गयी है।’ उन्होंने बताया कि यूपी में अभी रोजाना 1000 टन आक्सीजन की सप्लाई हो रही है, जिसे और बेहतर बनाने के लिए 370 सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं।

अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि घर-घर निगरानी टीम भेज कर ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट की रणनीति पर आक्रमकता से काम करने के सकारात्मक नतीजे आए हैं। उनके मुताबिक, 24 अप्रैल को 24 घंटे के दौरान संक्रमण 38,055 मामले आए थे, जो आज घटकर दस हजार हो गए हैं। अभी रोजाना तीन लाख टेस्ट किए जा रहे हैं, ताकि संक्रमित लोगों की पहचान हो सके।

सहगल ने लोगों से भी जागरुक होने की अपील की। उन्होंने कहा कि थोड़ा बुखार है ठीक हो जाएगा, यह गलतफहमी नहीं होनी चाहिए, लोग ऐसा करके खुद को खतरे में न डालें, इसलिए लोगों को समय पर अस्पताल जाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper