यूपी सरकार ने राहुल गांधी को लखीमपुर खीरी जाने की नहीं दी इजाजत

लखनऊ। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज (बुधवार) लखीमपुर खीरी जाने का ऐलान किया है, लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार से इसकी इजाजत नहीं मिली है। कांग्रेस ने राहुल के नेतृत्‍व में पांच सदस्‍यीय प्रतिनिधिमंडल के लखीमपुर जाने के लिए यूपी सरकार से इजाजत मांगी थी जिसे योगी सरकार ने ठुकरा दिया है। हालांकि सरकार से इजाजत न मिलने के बाद भी राहुल गांधी ने कहा कि आज हम 2 मुख्यमंत्रियों के साथ लखीमपुर खीरी जाकर उन परिवारों से मिलने की कोशिश करेंगे।

राहुल गांधी के मद्देनजर लखनऊ से लेकर लखीमपुर खीरी तक प्रशासन अलर्ट पर है। लखनऊ और लखीमपुर में धारा-144 लागू है। इस बीच सीतापुर में इंटरनेट बंद कर दिया गया है, जहां कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा को लखीमपुर पहुंचने की कोशिश के आरोप में हिरासत में लिया गया है। बहराइच में भी कथित तौर पर आज सुबह कुछ घंटों के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गईं, जब मृतक किसान का अंतिम संस्कार किया जा रहा था। हालांकि, इसे जल्द ही बहाल कर दिया गया।

लखनऊ के पुलिस कमिश्नर डी.के. ठाकुर ने कहा कि राहुल गांधी ने शासन से सीतापुर और लखीमपुर जाने की अनुमति मांगी थी। हमें अवगत कराया गया है कि शासन ने अनुमति देने से इनकार कर दिया है। शासन ने शायद दिल्ली एयरपोर्ट के अधिकारियों से भी कहा है कि उन्हें आने न दें।

उन्होंने कहा कि सीतापुर के SP और DM ने हमें लिखित रूप से अवगत कराया है कि वहां प्रियंका गांधी हैं। राहुल गांधी, कांग्रेस कार्यकर्ताओं, नेताओं के आने से कानून व्यवस्था की स्थिति खराब हो सकती है। उन्होंने भी आग्रह किया है कि किसी भी परिस्थिति में राहुल गांधी को सीतापुर न आने दिया जाए।

अधिकारी ने कहा कि फिर भी अगर वे (राहुल गांधी) लखनऊ आते हैं तो हमलोग हवाईअड्डे पर ही उनसे मिलकर आग्रह करेंगे कि वे सीतापुर या लखीमपुर खीरी न जाएं। इस बीच राहुल गांधी ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि वह छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी के साथ लखीमपुर खीरी का दौरा करेंगे।

राहुल गांधी ने कहा कि कुछ समय से देश के किसानों पर सरकार का आक्रमण हो रहा है। किसानों को जीप के नीचे कुचला जा रहा है। उनकी हत्या की जा रही है। बीजेपी के मंत्री के बेटे पर कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान की सरकार किसानों पर आक्रमण कर रही है। उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में धारा 144 लागू है यह केवल 5 लोगों को रोकती है, हम 3 लोग जा रहे हैं। हमने उनको चिट्ठी लिख दिया है। विपक्ष का काम दबाव बनाने का है ताकि कार्रवाई हो।

पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा को पहले ही पार्टी के 10 नेताओं के साथ सीतापुर में हिरासत में लिया गया है। प्रियंका गांधी को सोमवार तड़के उस समय हिरासत में लिया गया था, जब वह लखीमपुर खीरी जा रही थीं। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि प्रियंका को उनके वकीलों से मिलने नहीं दिया जा रहा है और प्रशासन उन्हें हिरासत में लेने का कारण नहीं बता रहा है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper