यूपी सरकार में राज्यमंत्री विजय कश्यप कोरोना से जंग हारे

उत्तर प्रदेश सरकार में राजस्व और बाढ़ नियंत्रण राज्यमंत्री विजय कुमार कश्यप कोरोना से जंग हार गए। कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के बाद उन्हें गुडगांव स्थित मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां मंगलवार को उनका निधन हो गया। वे मुजफ्फरनगर के चरथावल विधानसभा क्षेत्र से चुने गए थे।

उत्तर प्रदेश सरकार में राज्यमंत्री विजय कुमार कश्यप के निधन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गहरा शोक जताया है। उन्होंने कहा, ‘श्री विजय कुमार कश्यप एक लोकप्रिय जनप्रतिनिधि थे। प्रदेश सरकार के मंत्री के रूप में उन्होंने सदैव अपने दायित्वों का कुशलपूर्वक निर्वहन किया। श्री कश्यप के निधन से जनता ने अपना एक सच्चा हितैषी खो दिया है।’ मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी राज्यमंत्री विजय कश्यप के निधन पर दुख व्यक्त किया है. ट्विटर पर शोक संदेश में उन्होंने लिखा, ‘भाजपा नेता और उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री विजय कश्यप जी के निधन से अत्यंत दुख हुआ है। वे जमीन से जुड़े नेता थे और सदा जनहित के कार्यों में समर्पित रहे। शोक की इस घड़ी में उनके परिजनों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं। ओम शांति!’

उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने लिखा, ‘उत्तर प्रदेश सरकार में राज्यमंत्री विजय कश्यप जी के असामयिक निधन का समाचार अत्यंत दुःखद है। सरल स्वभाव के धनी विजय जी, सदैव समाज एवं संगठन के प्रति समर्पित रहे। उनका जाना भाजपा परिवार के लिए अपूर्णीय क्षति है। शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूँ। ॐ शांति!’

राज्यमंत्री विजय कश्यप के निधन पर विपक्षी नेताओं ने भी शोक जताया है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्विटर पर लिखा, ‘यूपी सरकार में मंत्री श्री विजय कश्यप जी का कोरोना संक्रमण के कारण निधन, अत्यंत दुखद! शोकाकुल परिजनों के प्रति संवेदना। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति दे। भावभीनी श्रद्धांजलि!

वहीं, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने लिखा, ‘मुजफ्फरनगर के चरथावल से विधायक एवं उत्तर प्रदेश सरकार में राज्यमंत्री विजय कश्यप जी का निधन अत्यंत दुखद है। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि उनकी दिवंगत आत्मा को शांति दें और उनके परिवार को यह दुख सहने की क्षमता प्रदान करें।’

Related Articles

Back to top button
E-Paper