खरी खरी : सब काम खुदा जाने

thapariyaal

उर्मिल कुमार थपलियाल

सरकार अब करेगी
क्या काम खुदा जाने।

मुन्नी जी फिर से होंगी
बदनाम खुदा जाने।।

फिर चुनाव आए
हम जा रहे धमकाए।

आगाज़ तो अच्छा है
अंजाम खुदा जाने ।।

शतरंज के खिलाड़ी
बचपन से जड़ीले हैं।

है नई इश्कबाजी
परिणाम खुदा जाने।।

सैयां तो बसे दिल्ली
अब लखनऊ शहर की।

कैसी सुबह क्या दुपहर
क्या शाम खुदा जाने।।

मूँछें तो एक सी हैं
डाकू हो या दरोगा।

नामी है कौन इनमें
बदनाम खुदा जाने।।

परियां तो सभी भागीं
इंदर के साथ यारों।

कब इश्क में मरेगा
गुलफाम खुदा जाने।।

भारत व पाक दोनों
घनघोर पियक्कड़ हैं।

छलकेंगे मोहब्बत के
कब जाम खुदा जाने।।

Related Articles

Back to top button
E-Paper