Uttarakhand : मुख्यमंत्री ने पुनर्वासित गांवों के लोगों से की बात, अधिकारियों को दिए निर्देश

मुख्यमंत्री(Uttarakhand) पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को अन्तरराष्ट्रीय आपदा जोखिम न्यूनीकरण दिवस पर पुनर्वासित गांवों के लोगों से बात कर उनकी समस्याएं को सुना। इस दौरान मुख्यमंत्री ने पुनर्वासित परिवारों को क्षेत्र में मूलभूत आवश्यकताओं की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

Uttarakhand

पुनर्वासित गांवों को मिले हक

मुख्यमंत्री(Uttarakhand) धामी ने मुख्यमंत्री आवास में हुए इस कार्यक्रम के दौरान अधिकारियों को पुनर्वासित परिवारों को पुनर्वास क्षेत्र में बिजली, पानी एवं अन्य मूलभूत आवश्यकताओं की पर्याप्त व्यवस्था करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिन पुनर्वासित गांवों को सड़क से जोड़ा जाना है, उनकी सूची जल्द शासन को उपलब्ध कराई जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुनर्वासित गांवों में मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए व्यवस्था मनरेगा से कन्वरजेंस एवं जिलाधिकारी के नियंत्रणाधीन विभिन्न फंडों से की जाए। इसके बाद भी कोई परेशानी हो तो मामला शासन स्तर पर लाए।

वर्चुअल माध्यम से हुआ कार्यक्रम

इस मौके पर मुख्यमंत्री(Uttarakhand) ने वर्चुअल माध्यम से आठ जनपदों के पुनर्वासित गांवों के लोगों से बात कर उनकी समस्याएं सुनीं। उन्होंने कहा कि सभी समस्याओं का उचित हल निकालने का प्रयास किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए आपदा की दृष्टि से संवेदनशील गांवों का लगातार सर्वे करने को कहा। सर्वे के बाद जिन गांवों एवं परिवारों को तत्काल पुनर्वासित करने की आवश्यकता है, उसकी सूची भी जल्द उपलब्ध कराई जाए।

Kanpur Case : फॉरेंसिंक एक्सपर्ट टीम ने गुलमोहर अपार्टमेंट में रिक्रिएट किया सीन

अधिकारीयों को दिए निर्दश

पुनर्वासित परिवारों के लिए भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार धनराशि दी गई है। पुनर्वासित क्षेत्र में अवस्थापना विकास के लिए राज्य सरकार की ओर से हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन लोगों का कोविड से निधन हुआ उन्हें आपदा मद से 50 हजार की धनराशि देने की व्यवस्था की जा रही है।इस मौके पर आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास मंत्री डाॅ.धन सिंह रावत,सचिव आपदा प्रबंधन एस.ए.मुरूगेशन, वर्चुअल माध्यम से सभी जिलाधिकारी उपस्थित रहे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper