Who is The Most Salaried CM of India : योगी या कोई और, जानिए किसे मिलती है सबसे ज्यादा सैलरी

जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आते जा रहे हैं. हम सबके ज़हन में ढेर सारे सवाल उमड़ने लगते हैं. गोवा, मणिपुर, पंजाब, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी ज़ोरों पर हैं. यही विधानसभा चुनाव का मतलब नया मुख्यमंत्री. क्या आप जानते हैं, कि देश के इतने सारे प्रदेशों के किस प्रदेश के मुख्यमंत्री की सैलरी कितनी होती है ? भारत का सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाला मुख्यमंत्री(The Most Salaried CM of India) कौन है? अगर नहीं, तो आइये हम बताते हैं.

Most Salaried CM of India

कौन हैं Highest Paid CM in India

हमारे देश में चुनाव प्रक्रिया पूरी होने के बाद जिस भी पार्टी के कैंडिडेट सबसे ज्यादा जीत पाते हैं फिर उसी पार्टी का कैंडिडेट राज्यपाल के द्वारा शपथ प्राप्त कर मुख्यमंत्री पद पर नियुक्त किया जाता है. संविधान की धारा 164 के तहत राज्यपाल मुख्यमंत्री की नियुक्ति करता है. आपको बताते चलें कि हर राज्य के मुख्यमंत्री की सैलरी अलग-अलग होती है. इनमे से सबसे ज्यादा सैलरी(Highest Paid CM in India) किसे मिलती है यह उस प्रदेश के विधानमंडल पर निर्भर करता है. दरअसल, प्रदेश का विधानमंडल ही यह तय करता है कि उसके प्रदेश के मख्यमंत्री को कितनी सैलरी मिलेगी.

हमारे देश में अगर सैलरी की बात की जाए तो सभी को बस इतनी सी जानकारी है कि राष्ट्रपति की सैलरी सबसे ज्यादा होती है. राष्ट्रपति के बाद प्रधानमंत्री की सैलरी और उसके बाद किसी भी प्रदेश के मुख्यमंत्री की सैलरी. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि कुछ राज्यों के मुख्यमंत्री कि सैलरी हमारे देश के माननीय प्रधानमन्त्री से भी ज्यादा होती है.

तेजप्रताप ने जेपी हाउस तक निकाला अनोखा पैदल मार्च, पैरों पर बरसता रहा मिनरल वाटर

तो आइये हम आपको बताते हैं कि कौन सा सीएम सबसे ज्यादा सैलरी पाता है. तेलंगाना के मुख्यमंत्री को देश के सभी मुख्यमंत्रियों की अपेक्षा सबसे ज्यादा सैलरी(Most Salaried CM of India) मिलती है. अगर बात करें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की तो वो इस सूची में दूसरे नंबर पर हैं. आइये जानते हैं कि आखिर योगी आदित्यनाथ इस सूचि में किस पायदान पर हैं-

  1. त्रिपुरा                            1,05,500 रुपये
  2. नागालैंड                        1,10,000 रुपये
  3. मणिपुर                         1,20,000 रुपये
  4. असम                           1,25,000 रुपये
  5. अरुणाचल प्रदेश             1,33,000 रुपये
  6. मेघालय                        1,50,000 रुपये
  7. उड़ीसा                           1,60,000 रुपये
  8. उत्तराखंड                      1,75,000 रुपये
  9. राजस्थान                      1,75,000 रुपये
  10. केरल                             1,85,000 रुपये
  11. सिक्किम                       1,90,000 रुपये
  12. कर्नाटक                        2,00,000 रुपये
  13. तमिलनाडु                     2,05,000 रुपये
  14. पश्चिम बंगाल                  2,10,000 रुपये
  15. बिहार                           2,15,000 रुपये
  16. गोवा                             2,20,000 रुपये
  17. पंजाब                           2,30,000 रुपये
  18. छतीसगढ़                      2,30,000 रुपये
  19. मध्यप्रदेश                      2,30,000 रुपये
  20. झारखंड                        2,55,000 रुपये
  21. हरियाणा                       2,88,000 रुपये
  22. हिमाचल प्रदेश               310,000 रुपये
  23. गुजरात                         3,21,000 रुपये
  24. आंध्र प्रदेश                    3,35,000 रुपये
  25. महाराष्ट्र                        3,40,000 रुपये
  26. उत्तर प्रदेश                   3,65,000 रुपये
  27. दिल्ली                          3,90,000 रुपये
  28. तेलंगाना                        4,10,000 रुपये

Related Articles

Back to top button
E-Paper