जमीन घोटाला: रॉबर्ट वाड्रा की बढ़ी मुश्किलें, CM ने जल्द कार्रवाई के दिए संकेत

जमीन घोटाला मामले में एक बार फिर हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा एवं सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा की मुश्किलें बढ़ गई हैं। दोनों के खिलाफ खेड़की दौला थाने में मामला दर्ज किया गया है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रविवार को मीडिया से बात करते हुए मामले में जल्द कार्रवाई के संकेत दिए हैं।

खेड़की दौला में दर्ज की गई नई एफआइआर में डीएलएफ कंपनी गुरुग्राम और ओंकारेश्वर प्रॉपर्टीज का नाम भी शामिल है। एफआइआर में आरोप लगाया गया है कि रॉबर्ट वाड्रा ने अपने राजनीतिक रसूख और भूपेंद्र सिंह हुड्डा से मिलीभगत करके धोखाधड़ी को अंजाम दिया।

इस पर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने कहा कि हम भ्रष्ट्राचार के खिलाफ पहले दिन से लड़ाई लड़ रहे हैं। सीबीआइ और विजिलेंस में कई मामले पहले से दर्ज है। गुरुग्राम के खेड़की दौला थाना में अब एक और मामला दर्ज हुआ है। हालांकि ये मामला पुराना है। पुलिस जांच कर रही है। जो दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि ढींगरा आयोग ने भी डीएलएफ वाड्रा मामले की जांच की थी, आयोग की रिपोर्ट पर हाई कोर्ट से स्टे है। स्टे हटने के बाद ढींगरा आयोग की रिपोर्ट के आधार पर भी कार्रवाई होगी।

हुड्डा पर वाड्रा का निजी प्रभाव था
रॉबर्ट वाड्रा और अन्य पर यह एफआइआर भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 120B, 467, 468 और 471 के तहत दर्ज की गई है। एफआइआर सुरेंद्र शर्मा नाम के शख्स ने दर्ज करवाई है। इस एफआइआर में शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि कुछ अफसरों द्वारा बड़े नेताओं और कुछ खास लोगों को फायदा पहुंचाने की कोशिश की गई थी। साथ ही शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में कहा है कि रॉबर्ट वाड्रा सोनिया गांधी के दामाद हैं और जिस वक्त यह घोटाला हुआ उस वक्त भूपेंद्र सिंह हुड्डा की सरकार थी और हुड्डा पर वाड्रा का निजी प्रभाव था।

Related Articles

Back to top button
E-Paper