पौड़ी में कुदरत का कहर, सात लोग जिंदा दफन

unnamed (6)पौड़ी गढ़वाल/देहरादून। पौड़ी गढ़वाल जिले में कुदरत का कहर टूटा है। जिले के पाबौ विकासखंड के एक गांव में बीती रात बादल फटने से सात लोग जिंदा दफन हो गए। जिले में मौसम की तबाही का आलम यह था कि स्वयं डीएम और एसपी को भी घटनास्थल पहुंचने में कड़ी मसक्कत करनी पड़ी और देर रात दोनों अधिकारी टूटे फूटे मार्गों से पैदल घटनास्थल पहुंचें।

जानकारी के अनुसार जिले के पाबौ ब्लाॅक के मरखोला गांव में देर रात हुई भारी बारिश से एक मकान ढह गया जिसमें सात लोग जिंदा दफन हो गए और दो लोग गंभीर घायल हो गए। एडीएम पौड़ी रामजी शरण शर्मा ने बताया कि सभी सात शव बरामद हो गए है जबकि घायलों को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय भेजा गया है। उन्होंने बताया कि पौड़ी-पाबौ मार्ग पर मलबा आने से पौड़ी जिला मुख्यालय से घटनास्थल के लिए रवाना हुई रेस्क्यू टीम को 45 किमी की दूरी पर पहुंचने में रात के एक बज गए। उन्होंने बताया कि इसके पहले स्थानीय लोग राहत एवं बचाव कार्य में लग गए थे। टीम ने पहुंचते ही पांच शव बरामद कर लिए जबकि दो लोगों के शव रविवार सुबह बरामद हुए हैं। इस दौरान तहसीलदार आशीष घिल्डियाल, सीओ डीएस तोमर और एसडीएम सदर पीएल शाह मयफोर्स राहत और बचाव कार्य में जुटे रहे। देर रात जिले के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक भी घटनास्थल पर पहुंचे।

एसडीआरएफ के मीडिया प्रभारी प्रवीण आलोक ने बताया कि प्रभावित दो भाइयों का परिवार एक ही मकान में रहता था जिसमें दीपक सिंह (75) के दो बेटों का परिवार रहता था। इसमें मकान के एक हिस्से में चंदन सिंह, उसकी पत्नी, दो बेटे, एक बेटी रहते थे। दूसरे हिस्से में स्व. मंगल सिंह का परिवार रहता था। परिवार में मंगल सिंह की पत्नी, एक बेटा, एक बेटी रहते थे।  देर रात अतिवृष्टि से पूरा मकान बह गया। चंदन सिंह की पत्नी, मां, बेटी, बड़ा बेटा और स्व. मंगल सिंह की पत्नी, बेटा, बेटी भी इसी में दब गए। घटना से कुछ देर पहले बुजुर्ग दीपक सिंह चंदन सिंह के छोटे बेटे को लेकर घर के समीप बह रहे गदेरे के उफान की थाह लेने गए थे। घर लौटे तो वह गायब था। बर्तन इत्यादि घरेलू सामान बह रहे थे।

चंदन सिंह कुछ काम से बाहर गए हुए हैं। जिला पंचायत सदस्य के पति गोपाल नेगी ने बताया कि चंदन सिंह को घटना की सूचना दे दी गई है। घटना की सूचना पाकर प्रशासन की टीमें राहत एवं बचाव कार्य के लिये घटनास्थल पर पहुंची। उन्होंने बताया कि अभी भी एसडीआरएफ की 15 सदस्यीय टीम लापता लोगों की तलाश में रेस्क्यू अभियान चला रही है। उधर जिला प्रशासन से प्राप्त सूची के अनुसार सौड़ी देवी पत्नी प्रदीप सिंह उम्र 65 वर्ष,सुनीता देवी पत्नी मंगल सिंह उम्र 35 वर्ष,मीनाक्षी पुत्री मंगल सिंह उम्र 09 वर्ष,रोहित पुत्र चंदन सिंह उम्र 16 वर्ष,आयुष पुत्र मंगल सिंह उम्र 06 वर्ष, कुसुम देवी पत्नी चंदन सिंह और सोनिया पुत्री चंदन सिंह के नाम मृतकों की सूची में शामिल है। घायलों में दीप सिंह उम्र 70 वर्ष और शुभम पुत्र चंदन सिंह उम्र 13 वर्ष के नाम शामिल है। मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मकान ढहने से हुई जनहानि पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने जिलाधिकारी पौड़ी को राहत व बचाव कार्य तेजी से चलाने के निर्देश दिए हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper