इतने डॉलर खर्च करते हैं इसके लिए ,अमेरिका में अवैध तरीके से घुस रहे भारतीय, 

एक तरफ जहां कई भारतीयों ने अमेरिका में सफलता के झंडे गाड़े हैं, वहीं बड़ी संख्या में भारतीयों ने अमेरिका में अवैध रूप से प्रवेश करने की भी हिमाकत कर डाली है. अमेरिका के कस्टम एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन (CBP) ने शुक्रवार को कहा कि बड़ी संख्या में भारतीय अवैध रूप से अमेरिका में प्रवेश कर रहे हैं. हाल की तुलना में वर्ष 2018 में गिरफ्तार किए गए ऐसे भारतीयों की संख्या तीन गुना बढ़ गई है. इतने डॉलर खर्च करते हैं इसके लिए ,अमेरिका में अवैध तरीके से घुस रहे भारतीय, 

प्रवेश के लिए 50 हजार डॉलर तक करते हैं खर्च
अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि अमेरिका और मेक्सिको की सीमा पर 25,000-50,000 डॉलर प्रति व्यक्ति खर्च कर भारतीय अवैध रूप से अमेरिका की सीमा में दाखिल हो रहे हैं. अधिकारियों ने कहा कि कुछ भारतीयों के उत्पीड़न का दावा सही प्रतीत होता है लेकिन अधिकांश संख्या में वैसे भारतीय हैं जो फर्जी दस्तावेज के साथ पैसे खर्च कर अमेरिका की सीमा में प्रवेश करते हुए पकड़े गए हैं. इनके खिलाफ धोखाधड़ी और अन्य आरोप में मामले दर्ज किए गए हैं. ये भारतीय शरण भी मांगते हैं.

मेक्सिकली शहर से प्रवेश आसान
अधिकारी ने कहा कि CBP को उम्मीद है कि 30 सितंबर को खत्म हुई अवधि का डेटा बताएगा कि करीब 9,000 भारतीय इस मामले में गिरफ्तार किए गए हैं. जबकि वर्ष 2017 में समान अवधि में 3,162 भारतीय पकड़े गए थे. इस साल करीब 4,000 भारतीय मेक्सिकली सीमा में तीन किलोमीटर के क्षेत्र में गिरफ्तार किए गए. उन्होंने कहा कि मेक्सिकली सीमा से सटा एक सुरक्षित शहर है, जहां से अमेरिका में प्रवेश करने में मदद मिलती है. 

अधिकारी के मुताबिक, शरण मांगने वाले निचले जाति के अछूत भारतीयों को अपनी जाति से बाहर जाकर सिख से शादी करने पर जान से मारने की धमकी का सामना करना पड़ता है, जबकि शरण मांगने वाले फर्जी लोग दस्तावेज के साथ छेड़छाड़ कर प्रवेश करने की फिराक में होते हैं. कहा जा रहा है कि कई अवैध तरीके से अभी भी कई भारतीय अमेरिका में प्रवेश कर रहे हैं. मानव तस्करी के जरिए ऐसी हरकतें हो रही हैं.

हाल ही में भारत के मासूम बच्चों को अमेरिका में ले जाकर बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश हुआ. गिरफ्त में आए गिरोह ने अब तक 300 बच्चों को अमेरिका ले जाकर बेचने की बात कबूली थी. ये गिरोह उन बच्चों को निशाना बनाता था जिनके मां-बाप काफी गरीब होते हैं.

Related Articles

Back to top button
E-Paper