Sunday , April 14 2024

प्राकृतिक आपदाओं से निबटने की रणनीति

1543381920_hudhud_s_at_325_101414030020भारत जैसे बड़े देश में प्राकृतिक आपदाएं सामान्य सी बात हैं, हर साल कभी आंधी-तूफान तो कभी भूकंप और कभी बाढ़ के रूप में ये आती हैं और जन-धन पर कहर बरपा कर चली जाती हैं. जब तक देश संभलता है. दूसरी आपदा आकर खड़ी हो जाती है. चाहे इसके कारण कुछ भी हों लेकिन सच्चाई तो यह है कि देश को हर तरह से नुकसान झेलना पड़ता है. अभी हम कश्मीर के महाबाढ़ की बात ही कर रहे थे कि अब दक्षिण भारत में हुदहुद ने हाहाकार मचा दिया.

हजारों करोड़ रुपये की संपत्ति नष्ट हो गई और दर्जनों लोगों को जान से हाथ धोना पड़ा. तीन राज्यों में इसने जबर्दस्त बर्बादी के आलम दिखाए. नए राज्य आन्ध्र प्रदेश, समुद्री तूफानों की मार झेलते रहने वाला ओडिशा और झारखंड में इसका विकराल रूप दिखा. विशाखापट्टनम शहर जो दक्षिण के बेहतरीन शहरों में था, पूरी तरह से उजड़ गया. वहां बड़े पैमाने पर मकान, बाजार, कल-कारखाने और यहां तक कि हवाई अड्डा भी नष्ट हो गया. वहां का प्रमुख राजमार्ग पानी की जबर्दस्त मार से बह गया. उन्हें फिर से बनने और संवरने में अब न जाने कितने साल लगेंगे. इन पर कितना खर्च आएगा इसका आकलन अभी बाकी है. यह राशि शायद लाखों करोड़ में हो. उधर भारी बारिश से ओडिशा और झारखंड में हजारों करोड़ रुपये की फसलें चौपट हो गईं. वहां किसानों के लिए बहुत संकट की घड़ी है क्योंकि दूरदराज के इलाकों में राहत पहुंच पाएगी या नहीं, यह बड़ा सवाल है. कुल मिलाकर यह बहुत बड़ी विपदा है. अमेरिका में आए समुद्री तूफान कैटरीना की तरह ही इसने भी भारी क्षति पहुंचाई और काफी समय तक इससे हुए नुकसान का आकलन किया जाएगा.

E-Paper

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com