Monday , March 30 2020

आईसीई ने गिरफ्तारी से जुड़े सवालों और इसके कारणों को लेकर तुरंत कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है

अमेरिका में संघीय अधिकारियों ने पिछले दो दिन में अनेक छापे मार कर कई भारतीयों को गिरफ्तार किया है. ये लोग मेट्रो डेट्रॉइट इलाके के एक कथित फर्जी विश्वविद्यालय में छात्र के रूप में पंजीकृत थे और देश भर में काम कर रहे थे. छात्रों का प्रत्यर्पण किया जा सकता है. अमेरिकी आव्रजन एवं सीमाशुल्क प्रवर्तन (आईसीई) ने ये छापे कोलंबस, ह्यूस्टन, अटलांटा, सेंट लुईस, न्यूयॉर्क और न्यूजर्सी आदि शहरों में मारे. आईसीई ने गिरफ्तारी से जुड़े सवालों और इसके कारणों को लेकर तुरंत कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

रेड्डी और न्यूमैन समूह के आव्रजन अटॉर्नी ने अपनी वेबसाइट पर पोस्ट किए गए एक बयान में कहा कि उसे रिपोर्ट मिली हैं कि आईसीई ने बुधवार सुबह 6:00 बजे मिशिगन स्थित फार्मिंगटन विश्वविद्यालय द्वारा अधिकृत पाठ्यक्रम व्यावहारिक प्रशिक्षण (सीपीटी) डे-1 के छात्रों के काम करने की जगहों पर छापेमारी की है. सीपीटी अमेरिका में विदेशी (एफ-1) छात्रों को रोजगार के लिये दिया जाने वाला विकल्प है. कुछ विश्वविद्यालय विदेशी छात्रों को यह विकल्प मुहैया कराते हैं. 

E-Paper

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com